वाई-फ़ाई क्या है और इसका इतिहास What is WiFi in Hindi

0

वाई-फ़ाई क्या है (What is WiFi in Hindi) टेक्नोलॉजी के दौर में WiFi इसका इस्तेमाल सभी लोग करते है. फिर भी क्या आपको पता है ये काम कैसे करता है. internet बहुत ही पहले आ गया था लेकिन उस समय इसका इस्तेमाल केवल Cable के जरिये ही कर सकते थे उदाहरण के लिए आप Telephone Booth को देख सकते है पहले काम फ़ोन करने के लिए या internet का इस्तेमाल करने के लिए Cable का इस्तेमाल करना पड़ता था. लेकिन इस Technology के Morden ज़माने में तो Cable का उपयोग तो काफी हद तक कम हो गया है और Cable के जगह हम WiFi जैसे (WLAN) Network का इस्तेमाल हो रहा है. तो क्या आपने कभी ये सोचा है की Cable के बिना internet कैसे काम करता है या फ़ोन call कैसे संभव हो पाया है आज इसी के बारे में जानने वाले है तो चलिए सुरु करते है.

Technology के वजह से ही एक Wire Cable के जगह पे Computer Engineers ने Wireless Network बना डाला जिसे WiFi कहते है और इसका इस्तेमाल हम और आप सभी जगह करते रहते है. तो चलिए जानते है बिस्तार से जानते है वाई-फ़ाई क्या है.

वाई फाई क्या है
वाई फाई क्या है

वाई-फ़ाई क्या है (What is WiFi in Hindi)

वाई-फ़ाई क्या है इसे हम अपने आसान भाषा में हम ये कह सकते है की WiFi रेडियो तरंगों की मदद से नेटवर्क और इंटरनेट तक पहुँचने की एक युक्ति (Technology) है. यह वाई-फाई एक्सेस प्वाइंट (WiFi Device) के इर्द-गिर्द मौजूद मोबाइल फोनों को वायरलैस (WiFi) इंटरनेट उपलब्ध कराने का काम करता है इस तकनीक की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इसकी गति (Speed) सामान्य सेवा प्रदाताओं की ओर से दी जाने वाली गति से काफी तेज होती है। यह तकनीक आजकल के नए स्मार्टफोन, लैपटॉप और कंप्यूटर में आसानी से पाई जाती है. एक
वायरलेस (बेतार WiFi) नेटवर्क बनाने के लिए, एक वायरलेस राउटर की जरूरत पड़ती है।

नोट: WiFi का पूरा नाम (Wireless Fidelity) है जो आज से लगभग 21 साल पहले 1998 में Wi-Fi Alliance नामक Company के द्वारा बनाया गया था.

WiFi Technology कैसे काम करता है

WiFi Technology एक ऐसा टेक्नोलॉजी है जिसके माध्यम से हम Wireless Network का इस्तेमाल कर पाते है. चाहे वह Office हो या Railway Station सायद आपने रेलवे स्टेशन पे जरुर ही देखा होगा की बड़े-बड़े Transmitter/Hub/Router लगे होते है जो WiFi Network Create करते है. Transmitter/Hub/Router में लगे Components Radio Waves उत्पन करते है जो एक छोटा सा एरिया को कवर करता है जिसे हम WiFi Zone कहते है.

इस छोटे से एरिया WLAN (Wireless Local Area Network) का रूप ले लेता है इसे वाई-फ़ाई भी कहते है. इस एरिया के अन्दर जितने भी Device जैसे Smartphone, Tablet, Computer, Laptop आते है वह सभी डिवाइस आसानी से वाई-फ़ाई का इस्तेमाल कर सकते है. अगर उन सभी Device के अन्दर WiFi Adapter हो तो.

अगर हमें अपने Smartphone या Laptop में WiFi के द्वारा Internet Access कराना हो तो सबसे पहले हमारे पास एक WiFi Router होना चाहिए Router Hotspot के मदत से Wireless Network बनता है और हम उसका इस्तेमाल अपने Smartphone के WiFi को On करके कर सकते है. और यही प्रोसेस Laptop या Computer में काम करता है.

नोट: कुछ Device ऐसे भी होते है जिनके अन्दर WiFi Adapter नही होता है जैसे – कुछ पुराने कंप्यूटर, डेस्कटॉप इत्यादि इन्हें WiFi Adapter नही होता है. इस स्थिति में एक Wireless Adapter खरीदकर अपने डेस्कटॉप के USB पोर्ट में लगाये इसमें बाद WiFi को connect कर पाएंगे.

WiFi Standards क्या है

वाईफाई के 5 प्रारूप है जो जिन्हें आप निचे table में देख सकते है. और wifi के सभी फीचर इसके अंतर्गत ही आते है तथा ये WiFI Standards Baind कहलाते है.

802.11 Standards
802.11a
802.11b
802.11g
802.11n

वाईफाई स्टैंडर्ड्स

802.11 Standards – 802.11 मानक मूल रूप से 1997 में अस्तित्व में आए थे और 1999 में पंजीकृत थे इनका ट्रांसफर दर 1 या 2 एमबीपीएस है.

802.11a – 802.11a मूल 802.11 मानकों के समान है क्योंकि यह डेटा लिंक लेयर प्रोटोकॉल का उपयोग करता है-और फ्रेम 802.11 मानकों में उपयोग किया जाता है। लेकिन बुनियादी 802.11a यह 5 गीगाहर्ट्ज बैंडविड्थ और 54 Mb/s डेटा रेंज का उपयोग करता है। यह एक बहुत प्रभावी है.

802.11b – 802.11 b भी 802.11 मानकों द्वारा परिभाषित मीडिया का उपयोग करता है यह 2000 में देखने में आया था. 802.11b में मॉडुलन तकनीक का सीधा जोड़ 802.11 के समान है इसके अलावा 802.11 b अन्य उत्पादों की घुसपैठ से भी ग्रस्त है 802.11 b को संचालित करने के लिए हमें 2.4 GHz बैंड की आवश्यकता है 802.11b में 2.4 GHz बैंड द्वारा संचालित बहुत सारे डिवाइस जैसे ब्लूटूथ, ओवन, कार्ड कम फोन और मॉनिटर हैं

802.11g – 802.11g को 2003 में 2.4 GHz बैंड के साथ तीसरे मॉड्यूलेशन डिवाइस के रूप में अधिकृत किया गया था यह भौतिक स्तर पर 54Mbit / s के साथ अधिकतम डेटा दर प्रदान करता है 802.11 जी का हार्डवेयर 802.11 बी के साथ पूरी तरह से संगत है। 802.11 जी की सबसे प्रेरणादायक विशेषता गति है इसलिए उपयोगकर्ता इसे तेजी से अपना रहे हैं

802.11n –802.11 मानकों में संशोधन समय बीतने और उपयोगकर्ता या नेटवर्क की आवश्यकता के अनुसार हो रहे हैं। 802.11 मानकों का संशोधन 802.11n है। इसमें कई नए फीचर्स और MIMO हैं लेकिन यह 802.11 मानकों पर आधारित है। 802.11n को 802.11 मानक परिवार में 2009 में अंतिम समर्थन के रूप में मान्यता दी गई।

WiFi के फीचर

Wifi की बहुत सारी विशेषताएं (Advantage) हैं जो इसे और अधिक आसान और सरल वायरलेस नेटवर्क बनाती हैं वायरलेस स्थानीय क्षेत्र नेटवर्क के रूप में तारों के बिना ईथरनेट का एक संस्करण है वाई-फाई प्रौद्योगिकी का उपयोग डेटा साझाकरण और दो या दो से अधिक उपकरणों के जोड़ने के लिए किया जा सकता है wifi के अंतर्गत इंटरनेट से जुड़ने या नेटवर्क बनाने के लिए तारों की कोई आवश्यकता नहीं है यह IEEE 802.11 पर आधारित wifi नेटवर्क है.

हैं जो इसे और अधिक आसान और सरल वायरलेस नेटवर्क बनाती हैं वायरलेस स्थानीय क्षेत्र नेटवर्क के रूप में तारों के बिना ईथरनेट का एक संस्करण है वाई-फाई प्रौद्योगिकी का उपयोग डेटा साझाकरण और दो या दो से अधिक उपकरणों के जोड़ने के लिए किया जा सकता है wifi के अंतर्गत इंटरनेट से जुड़ने या नेटवर्क बनाने के लिए तारों की कोई आवश्यकता नहीं है यह IEEE 802.11 पर आधारित wifi नेटवर्क है.

  WiFi नेटवर्किंग की एक नई विशेषता है और इसने नेटवर्किंग के क्षेत्र में एक नई विशेषता ला दी है रेडियो प्रसारण के माध्यम से डेटा प्रसारण समाप्त हो गया है. वाईफाई प्रौद्योगिकी के माध्यम से एक उपयोगकर्ता आसानी से दुनिया भर में साझा करने (जुड़ने) के उद्देश्य से इंटरनेट तक पहुंच प्राप्त कर सकता है।अब किसी भी प्रकार के व्यवसाय में कंप्यूटर नेटवर्क स्थापित करना मुश्किल नहीं है, जैसे कि कंपनियां, कॉफी शॉप,लाइब्रेरी, कैंपस, होटल, कॉलेज, विश्वविद्यालय, निजी संस्थान आदि, वाई-फाई टेक्नोलॉजी आपको अपने व्यवसाय से अधिक लाभ प्राप्त करने में सक्षम बनाती हैं और सुविधा प्रदान करती हैं.

WiFi Technology आपको दुनिया भर में जोड़ता है और इसकी कोई सीमा नहीं हैअन्य नेटवर्क की तुलना में WiFi टेक्नोलॉजी में खपत की बहुत शक्ति है। आप हाई स्पीड इंटरनेट पा सकते हैं.

Advantage of WiFi

  • वाईफाई के बहुत से एडवांटेज है जैसे कोई भी बढ़ी ही आसानी से अपने फ़ोन या कंप्यूटर में वाई फाई का इस्तेमाल कर सकता है. उसके लिए बाद wifi के एरिया में रहना होता है.
  • इसका इस्तेमाल हम रेलवे स्टेशन, बस, मॉल, कॉफ़ी शॉप तथा अन्य और स्थानों पर कर सकते है बसर्ते वहा wifi होना चाहिए.
  • आप एक wifi device के अन्दर अनेको device को कनेक्ट कर सकते है और wifi के से connect होने के लिए ज्यादा समय नही लगाता है.
  • अगर आप smartphone का इस्तेमाल करते है तो आपको जरुर ही पता होगा क्यों की wifi के माध्यम से ही हम बड़े से बड़े file को दुसरे smartphone में आसानी से भेज सकते है.

Disadvantage of WiFi

  • सबसे पहला Disadvantage है security को लेकर wifi का सिक्यूरिटी ज्यादा नही है इससे हमें फ़ोन या उस device का डाटा loss होने का डर बना रहता है जिस device में wifi connect हो.
  • इसका एक fix लोकेशन (area) होता है अगर हमारा device उस एरिया के अन्दर हो तो हम wifi का इस्तेमाल कर सकते है अन्यथा नही कर सकते है.
  • इसका Range ज्यादा नही होता है इसी लिए अगर wifi router किसी दुसरे कमरे में हो और हमारा device दसरे कमरे में तो signal low हो जाता है और speed slow हो जाती है.

History of WiFi

WiFi का जन्म 1985 में हुवा था. United State FCC (Federal Communications Commission) ने ऐलान किया की IEEE 802.11 प्रोटोकॉल को बिना लाइसेंस के कोई भी इस्तेमाल कर सकता है और तभी से इसके History का सुरुवात हो गया.

सायद इसके बारे में आपको जानकारी नही होगी की बैंड माइक्रोवेव ओवन जैसे उपकरणों में प्रयोग किया जाने वाला समान है. बैंड को उपयोग में लाने के लिए FCC ने इसका उपयोग अनिवार्य कर दिया था. wifi में इस्तेमाल होने वाले बहुत से बैंड है जिन्हें मैंने ऊपर बता है उसके आप यहाँ भी देख सकते है. 802.11 Standards, 802.11a, 802.11b, 802.11g, 802.11n इन्ही के इन्ही के तहत wifi काम करता है.

Conclusion (अंतिम राय)

वाई-फ़ाई क्या है और इसका इतिहास What is WiFi in Hindi के बारे में दी गयी जानकारी आपको कैसा लगा comment करके जरुर बताये.

मुझे आसा है की मैंने आप लोगो को वाई-फ़ाई क्या है what is wifi की जानकारी हिंदी में दी है और मै आशा करता हु आप लोगो को वाई फाई क्या है की जानकारी समझ आ गया होगा. अगर आपके मन में is Post या Article को लेकर कोई Doubts हो तो Comment करके जरुर बताये. अगर आपको ये Post अच्छा लगा हो और कुछ सिखने को मिला हो तो कृपया post को Social Networks जैसे की whatsapp, Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share करे.

जिंदगी को हमेसा मुस्कुरा कर गुजारो😘😘😘,
क्युकी आप ये नही जानते की यह कितनी बाकी है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here