EMI क्या है तथा EMI कितने प्रकार का होता है | EMI कैसे ले 2021

EMI क्या है आज हम जानेंगे की EMI क्या है तथा EMI कैसे काम करता है अगर आप भी EMI ले चुके है या लेने की सोंच रहे है तो यह जानकारी आपके लिए बहुत ही फायदेमंद साबित हो सकती है.

अगर आप किसी बैंक से EMI (लोन) ले चुके है या लेने की सोच रहे है तो सबसे पहले EMI का गड़ना करना जान लेना चाहिए आज इस लेख में हम EMI से जुडी सभी जानकारी प्राप्त करने वाले है.

EMI क्या है

emi क्या है
emi क्या है

EMI – Equated Monthly Installment (मासिक किस्त) वह राशी है जिसे हम किसी बैंक अथवा फाइनेंशियल कंपनी से उधार लेते है और उधार लिए रुपयों का एक निश्वचित राशी उस बैंक अथवा फाइनेंशियल कंपनी को प्रत्येक महीने माशिक किस्त जमा करने की सुविधा EMI कहलाता है.

जब हम बैंक अथवा फाइनेंशियल कंपनी से लोन लेते है तो हमें एक साथ पूरा पैसा मिल जाता है और हम अपना कार्य आसानी से कर लेते है. लेकिन जब हम बैंक अथवा फाइनेंशियल कंपनी को चुकाना होता है तो हम एक साथ नहीं चूका पाते है.

इसलिए बैंक तथा फाइनेंशियल कंपनी लोन को आसान बनाने के लिए EMI का ऑप्शन देती है इस EMI के जरिये माशिक किस्त बैंक तथा फाइनेंशियल कंपनी को भुगतान करके अपना लोन आसानी से चूका सकते है. EMI का पूरा नाम Equated Monthly Installment होता है.

EMI कितने प्रकार का होता है

EMI मुख्य रूप से दो प्रकार के होते है :-

NO COST EMISTANDARD EMI

NO COST EMI

NO COST EMI – इसके अंतर्गत बैंक से प्राप्त वह लोन राशी जिसके बदले हमें बैंक को ब्याज नहीं देना होता है उसे हम नो कास्ट इ ऍम आय(EMI) कहते है. इसमें कुछ चुनिन्दा बैंक तथा फाइनेंशियल कंपनिया सामिल है.

जो हमें No Cast EMI प्रदान करती है No Cast EMI के तहत हम ज्यादा महीनो के लिए EMI नहीं ले सकते है. No Cast EMI में लिए गए पैसे बैंक को 3 या 6 महीने में वापस करने होते है.

Flipkart ने पहले No Cast EMI योजना शुरू की थी, जिसे बाद में Amazon जैसे अन्य ईकामर्स साइटों में शामिल किया गया इस योजना के तहत खरीदारों को EMI के माध्यम से ऑनलाइन उच्च मूल्य की वस्तुओं को खरीद करने की अनुमति देती है,

जिससे एक बड़ी राशि का भुगतान करने का बोझ कम हो जाता है. तथा हम कोई भी वस्तु या सामान आसानी से ले सकते है.

NO COST EMI = राशि (केवल EMI पे ख़रीदा गया वस्तु की राशि)

STANDARD EMI

Standard EMI इसके तहत आने सभी EMI के के लिए ब्याज देना होता है, जैसे – हम कोई भी उच्च राशि के वस्तु खरीदते है जिसका मूल्य ₹51,999 है इसे क्रेडिट कार्ड (Cradit Card) या बैंक से EMI लेते है.

EMI कुछ महीने के लिए होता है जैसे – 3 महीने,6 महीने, 9 महीने, 12महीने, 18 महीने तथा 24महीने अब हमें क्रेडिट कार्ड या बैंक को मूल राशि के कुछ परसेंट (%) देने होते है.

यह EMI देने वाले बैंक तथा फाइनेंशियल कंपनी निर्धारित करती है जैसे – HDFC बैंक के कार्ड पर हमें ₹51,999 के लगभग 14% देने होते है. सभी बैंक तथा फाइनेंशियल कंपनी का का अलग-अलग ब्याज दर होते है.

NO COST EMI = राशि + ब्याज (EMI पे ख़रीदा गया वस्तु की राशि पे कुछ % ब्याज)

EMI कैसे ले

EMI हम दो प्रकार से ले सकते है पहला किसी बैंक से दूसरा फाइनेंशियल कंपनी से, हम इन दोनों में से किसी से भी संपर्क करके इनके द्वारा दी गई सर्विस से कोई बी वस्तु खरीद सकते है और उस वस्तु के मूल्य अथवा राशी के लिए EMI ले सकते है.

तथा उस वस्तु के लागत राशी पे EMI ले सकते है क्युकी EMI लेने पर ही हम बैंक तथा फाइनेंशियल कंपनी को छोटे-छोटे किस्तों प्रत्येक महीने जमा कर पाएंगे.

EMI देने वाली सबसे लोकप्रिय फाइनेंशियल कंपनी Bajaj Finserv है. हम इसकी मदत से भी EMI प्राप्त कर सकते है इसकी सबसे खास बात ये है की यह NO COST EMI भी देता है.

EMI लेने के फायदे

EMI लेने से पहले हमे यह जानना बहुत ही जरुरी है की EMI लेने के क्या फायदे हो सकते है. हमने यह जाना की EMI क्या है अब जानते है EMI के फायदे क्या है.

  • EMI लेने से आर्थिक दबाव नहीं पड़ता है.
  • EMI में माध्यम से हम महंगे से महंगे राशि के वस्तु खरीद सकते है.
  • EMI में मूलधन राशि को किस्तों में भुगतान कर सकते है.
  • कुछ पैसे देखर लाखो का सामान का EMI करा सकते है (जैसे – Car लेना).

EMI लेने के नुकसान

हम जब भी कोई सर्विस लेते है तो इसके फायदे के साथ-साथ नुकसान भी होते है EMI में भी ऐसा होता है. EMI के फायदे भी है तो इसके नुकसान भी है.

हमने EMI के फायदे के बारे जाना अब EMI के नुकसान के बारे में जानेंगे की, EMI लेने से क्या-क्या नुकसान हो सकते है.

  • Standard EMI में ज्यादा नुकसान होते है जैसे हम अगर EMI नहीं जमा करते है तो हमें ज्यादा ब्याज देना होगा.
  • EMI लेने से एक आम आदमी पर इसका ज्यादा असर पड़ता है जैसे समय से EMI जमा करने की चिंता.
  • EMI लेने से मूल राशि पे ब्याज देना देना होता है जो सबसे पड़ा नुकसान है.

इसे भी पढ़े :-

Conclusion (निष्कर्ष)

आज हमने इस लेख में सिखा की EMI क्या है तथा EMI कैसे लेते है EMI लेने के क्या फायदे है तथा EMI लेने के क्या नुकसान है.

उम्मीद करता हु की ये लेख EMI क्या है आपको पसंद आया होगा, अगर आपको इस लेख से कुछ सिखने को मिला तो इसे अपने दोस्तों तथा चाहने वाले के साथ जरुर शेयर करें.

तथा इस लेख के बारे में कोई सुझाव या सिकायत हो तो आप हमें कमेंट करके जरुर बताये, आपके एक कमेंट से हमें कुछ नया सिखने का मौका मिलेगा.

07daf94c83b8a303cd288172312ad220?s=116&r=g imbeginner.in
Vishal Guptahttps://www.imbeginner.in/
मैं इस ब्लॉग का संस्थापक तथा एक कंप्यूटर इंजीनियर हूं। इस ब्लॉग पर मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी और मददगार जानकारी हिंदी में शेयर करता हूं. ❤️

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

209FansLike
435FollowersFollow
38FollowersFollow

नवीनतम लेख