Contents

कंप्यूटर क्या है – what is Computer in Hindi (computer full form)

कंप्यूटर क्या है (what is Computer in Hindi) और कंप्यूटर कितने प्रकार के होते है ये सवाल बहुत ही साधारण है जो सभी लोगो के मन में आते रहते है. और भी बहुत से सवाल है जो अक्सर लोगो द्वारा पूछे जाते है जैसे – Computer kya hai, Computer full form, History of Computer, Computer Generation इन सभी सवालो के जवाब आज इस Article के माध्यम से आपको मिलने वाला है. लेकिन आप सोच रहे होंगे मै ये क्यों बता रहा हु ये तो सभी को पता है. की कंप्यूटर को कैसे चलाते है इसका Definition क्या है.

पर क्या आपको पता है ये काम कैसे करता है. सबसे पहेल इसे किसने बनाया था, ये किस-किस- दौर से होकर गुजरा है. आज जो जिस कंप्यूटर का इस्तेमाल करते है उसे यहाँ तक पहुचने में कितना समय लगा है, इसके पीछे का रहस्य क्या है ये वैज्ञानिको द्वारा किये गये कई सालो के मेहनत का परिणाम है. इस आर्टिकल (post) के माध्यम से आपको लोगो को कंप्यूटर की पूरी जानकारी हिंदी में मिलेगी तो देर किस बात की चलिए सुरु करते है और जानते है computer kya hai.

कंप्यूटर क्या है – what is Computer

कंप्यूटर क्या है (what is computer)
कंप्यूटर क्या है

कंप्यूटर का नाम सुनते ही आपके मन में हजारो विचार आने लगते है क्यों की कंप्यूटर बहुत ही आसानी से हजारो गतिबिधिया अकेले कर सकता है. लेकिन Computer को Defined करना सभी करना लोगो के लिए थोडा मुश्किल होता है. ऐसा इस लिए होता है क्यों की कंप्यूटर का इस्तेमाल लोग अलग-अलग कार्यो के लिए करते है और वह अपने कार्य के अनुसार इसे Defined करते है. जैसे अगर कोई लेखक/टाइपिस्ट है और उसे पूछेंगे की computer क्या है तो वह सायद यही कहे की कंप्यूटर एक टाइपिंग मसीन है इसी प्रकार अगर कंप्यूटर का इस्तेमाल Game खेलने के लिए करता है तो वह यही कहेगा की ये के गेमिंग मसीन है.

इसी लिए computer को किसी एक शब्द में नहीं बांध सकते है. लेकिन कंप्यूटर के जनक Charles Babbage के अनुसार Computer एक Electronic Device है जिसे Design किया गया है तथा ये Information के साथ काम करता है. Computer शब्द Latin के शब्द “कंप्यूट” से लिए गया है जिसका मतलब होता है Calculation करना या गणना करना. मुख्य रूप से कंप्यूटर के काम करने अनुसार दो भागो में बाटा गया है. जिसमे पहला Input होता है इसके माध्यम से हम कंप्यूटर को बताते है उसे क्या काम करना है और दूसरा होता है Output इसमें माध्यम से कंप्यूटर दिए हुवे Input का सही Answer आसानी से बता देता है.

नोट : Computer के जनक Charles Babbage को कहा जाता है क्यों की उन्होंने ने ही Mechanical Computer को डिजाईन किया था इस कंप्यूटर में “Punch Card” के माध्यम से डाटा को insert किया जाता था.

कंप्यूटर को हम एक ऐसा Electronic Device कह सकते है जो डाटा को Input के तौर पे यूजर के लेता है और उस डाटा को program के माध्यम से process करता है और finally result User को Output के रूप पे प्रकाशित करता है.

Computer full form

कंप्यूटर का कोई एक full form नही है इसे कंप्यूटर को अपने कार्य के अनुसार लोग डिफाइंड करते है उन्ही में से ये एक computer full form

C Commonly
O Operated
M Machine
P Particularly
U Used for
T Teaching
E Education and
R Reasearch

कंप्यूटर का इतिहास History और Computer

ये तो अभी तक कोई भी Defined नहीं कर पाया की कंप्यूटर Development का काम कबसे सुरु हुवा था. लेकिन computer को उसके Development Generation के अनुसार मुख्य रूप से 5 भागो में बांटा गया है.

First Generation: Vacuum Tubes (1940-1956)

सबसे पहले Generation के कंप्यूटर को Vacuum Tubes के नाम से जाना जाता है. इस जनरेशन के कंप्यूटर में सर्किट्री और चुंबकीय ड्रम के लिए वैक्यूम ट्यूब का उपयोग किया जाता था जो एक Memory का काम करता था ये आकार में अक्सर बहुत बड़े होते थे, जो पूरे कमरे को कवर कर लेते थे. इस कंप्यूटर को संचालित करने के लिए ज्यादा मात्रा में बिजली की आवश्यकता पड़ती थी. तथा इनके आकार इतने बड़े थे जिनके कारन ये ज्यादा Heating करते थे और ये Heating ही इनके खराबी के कारण बनता था.

इन कंप्यूटर के अन्दर एक साथ केवल एक ही समस्या को हल कर सकते थे तथा इनमे कोई समस्या आने पर इंजिनियर द्वारा ठीक करने में दिन या सप्ताह भी लग जाते थे. UNIVAC और ENIAC कंप्यूटर पहली पीढ़ी के कंप्यूटर उपकरणों के उदाहरण हैं। UNIVAC 1951 में एक व्यावसायिक ग्राहक, अमेरिकी जनगणना ब्यूरो को दिया गया पहला व्यावसायिक कंप्यूटर था।

Second Generation: Transistors (1956-1963)

Second जनरेशन के कंप्यूटर में Transistors ने Vacuum Tube का स्थान ले लिया
ट्रांजिस्टर वैक्यूम ट्यूब से कहीं अधिक श्रेष्ठ था, जिससे कंप्यूटर अपनी पहली पीढ़ी के कंप्यूटर की तुलना में छोटे, तेज, सस्ते और अधिक विश्वसनीय बन गए. ट्रांजिस्टर का आविष्कार 1947 में बेल लैब्स में किया गया था. पहले Generation एक कंप्यूटर के मुकाबले इसमें नये नये High Level के Programming Language आये जैसे “COBOL” और “FORTRAN” को इसतेमाल में लाया गया.

Third Generation: Integrated Circuits (1964-1971)

इस Generation के कंप्यूटर में पहली बार Integrated Circuit का इस्तेमाल किया गया था
ट्रांजिस्टर को छोटा करके Silicon Chips पर रखा गया जिसे अर्धचालक Semiconductors कहा जाता है जिसने कंप्यूटर की गति और छमता को काफी बढ़ा दिया. इस Generation के उपयोगकर्ताओं ने Keyboard और Monitar के माध्यम से तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों के इस्तेमाल किया. Third Generation के कंप्यूटर में एक साथ अनेको Application को एक साथ चला सकते थे.

Fourth Generation: Microprocessors (1971-Present)

इस Generation के सभी बड़ी उपलब्धि थी Microprocessor का इस्तेमाल क्यों की Microprocessor के अन्दर हजारो Integrated Circuit को मिलाकर एक Silicon Chips बनाया गया जिससे इस कंप्यूटर ने बहुत ही काम समय में बड़े-बड़े काम को आसानी से कर देता था. इसी Generation में 1981 में आईबीएम ने अपना पहला कंप्यूटर होम यूजर के लिए पेश किया और 1984 में Apple ने Macintosh को पेश किया. और ये वही समय था जब कंप्यूटर छेत्र में बहुत बड़ा बदलाव देखने को मिला था. Microprocessor के इस्तेमाल के छोटे-छोटे कंप्यूटर भी अधिक शक्तिशाली हो गये.

Fifth Generation: Artificial Intelligence (Present and Beyond)

ये Generation आज के दौर का है जो अभी प्रगति पर है इस generation में Artificial Intelligence ने अपना स्थान कायम कर लिए है इस जनरेशन के कंप्यूटर इतने बुद्धिमान हो गये है वह आके आवाज को सुन सकते है और इसका जवाब भी दे सकते है. आप इस बात से अंदाजा लगा सकते है ये Generation कितना टेक्नोलॉजी वाला है. और ये जनरेशन अभी भी प्रगति पर है ये कब खत्म होगा इसका कोई अनुमान नहीं है.

कंप्यूटर के जनक

charles babbage (Generation of computer)

Charles Babbage

आधुनिक कंप्यूटर के जनक किसे कहा जाता है ? इसमें किसी एक का नाम नही बताया जा सकता क्यों की आधुनिक कंप्यूटर बनाने में बहुत लोगो का योगदान है. लेकिन इसमें सबसे ज्यादा योगदान Charles Babbage का है क्युकी उन्होंने ही सबसे पहले Analytical Engine सन 1837 में बनाया था. इनके द्वारा बनाये इस Engine में ALU, Basic Flow control और Integrated Memory की कांसेप्ट लागु की गई थी. कंप्यूटर के छेत्र में इनका बहुत बड़ा योगदान रहा है और इसी लिए इन्हें कंप्यूटर के जनक कहा जाता है.

कंप्यूटर कैसे काम करता है

Computer तिन प्रकार से काम करता है और यही कंप्यूटर के काम करने के मुख्य रूप है जो निम्न है Input, Process, Output. कंप्यूटर चाहे कोई भी हो सुपर कंप्यूटर या मिनी कंप्यूटर या फिर माइक्रो कंप्यूटर ये सभी Input, process और Output पे काम करते है.

Input (Data): Input वह step है जिसमे किसी भी Information को इनपुट डिवाइस के माध्यम से system तक पहुचाते है जैसे Keyboard, Mouse ये एक Input Device है. इसमें Audio, Video या Picture कुछ भी हो सकता है.

  • Android क्या है और इसका इतिहास.
  • Netflix क्या है ये काम कैसे करता

Process:  Process के दौरान हमारे द्वारा Input किये गये डाटा को कंप्यूटर store करके Processing करता है और ये पूरी तरह से Internal होता है. और ये प्रोसेसिंग के तहत आता है.

Output: Computer हमारे द्वारा दिए गए Input को Process करता है और Process कम्पलीट होने के बाद प्राप्त Result को Output के रूप में प्रदर्शित करता है Output कहलाता है. हम इस डाटा को save भी रख सकते है ये कंप्यूटर के फीचर पे निर्भर करता है.

Computer Components

क्या आपने कभी कंप्यूटर या laptop को खोलते हुवे देखा है अगर हाँ तो तो आपने ये जरुर देखा होगा की उसमे कुछ छोटे-छोटे Components लगे रहते है जिनकी वजह से हमारा कंप्यूटर चल पता है. अगर ये छोटे-छोटे दिखने वाले components कंप्यूटर से निकाल दिया जाये तो कंप्यूटर नही चलेगा. तो चलिए जानते है इन Components के मुख्य part कौन-कौन से है.

Motherboard

Motherboard ये कंप्यूटर ही नही बल्कि सभी Electronic Device के लिए होता है कंप्यूटर में में जो छोटे-छोटे Components लगे होते है ये सभी Motherboard में ही लगे होते है. ये एक पतली प्लेट की तरह दिखने वाली ब्लू रंग की प्लेट होती है जो सभी कंपोनेंट्स और circuit को अपने अन्दर धारण किये रहती है. जैसे CPU, Hard Drive, Memory, अगर देखे तो और भी सभी components Directly या Indirectly Motherboard से जुड़े हुवे है. आप निचे दिए गये photo के माध्यम से Motherboard को देख सकते है.

hostory of computer (motherboard)
what is computer (Motherboard)

CPU – Central Processing Unit

क्या आप जानते है CPU (Central Processing Unit) को Processor भी कहते है ये Motherboard अन्दर होता है CPU का काम होता है कंप्यूटर को नियंत्रित करना इसके कंप्यूटर का दिमाग कहा जाता है CUP ही सभी गतिबिधियो पर नजर रखे रहता है. जितना बढ़िया CPU होता है उतना ही बढ़िया speed कंप्यूटर में देखने को मिलता है. CPU वही है जो पहले Generation में Vacuum Tubes दुसरे जनरेशन में Transistors तीसरे में Integrated Circuit और चौथे में Microprocessor के नाम से जाना जाता था.

RAM

Ram को हम Random-access memory के नाम भी जानते है ये कंप्यूटर सिस्टम का वह मेमोरी होता है जिसके अन्दर हम real time में चल रहे डाटा को छोड़ कर अन्य किसी प्रकार के डाटा को store नहीं करता है. जब भी कंप्यूटर में कोई program चल रहा होता है तो कंप्यूटर उसे temporarily रूप से Ram के अन्दर save कर देता है.अगर हम चल रहे program को hard drive में सबे ना करे कंप्यूटर को बंद कर दे तो तो program नस्ट हो जाता है.

नोट : Computer में चल रहे program को नस्ट होने से बचाने के लिए Hard Drive में save करे. ऐसा करने से हमारा डाटा लम्बे समय के लिए save हो जाता है. और कंप्यूटर को बंद करने पर डाटा नस्ट नही होता है.

कंप्यूटर क्या है (what is computer ram)
कंप्यूटर क्या है (कंप्यूटर Ram)

Hard Drive

Hard Drive ये एक ऐसा storage होता है जिमसे कोई भी डाटा को save करने के बाद उसे तब तक access कर सकते है जब तक हम उस डाटा को delete ना कर दे. इस drive में हम software, document इत्यादि save कर सकते है.

Hardware and Software on the कंप्यूटर

Hardware वह होते है जिनसे हम टच (Touch) सकते है जैसे CUP, Keyboard, Mouse और वह सभी Components जिसे कंप्यूटर के अन्दर लगे होते है Hardware कहलाते है. Software – सॉफ्टवेर वह होते है जिन्हें हम केवल महसूस कर सकते है उन्हें hardware की तरह टच नहीं कर सकते है software जैसे प्रोग्रामिंग, Application जो हम internet इस्म्तेमल के लिए करते है, Game जो मनोरंजन के लिए खेलते है इत्यादि जो कंप्यूटर hard drive में इनस्टॉल होते है software कहलाते है.

History of computer
computer hardware

Computer के प्रकार

अगर कंप्यूटर का नाम नाम सुनते है तो हमारे मन में केवल एक ही सवाल आता है और वो होता है computer (laptop) के बारे में लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं है. कंप्यूटर के बहुत सारे प्रकार है और जरूरत के समय इसका इस्तेमाल हम भी करते है सायद आपको पता नही है. जब हम ATM में जाते है पैसे निकलने तो वह भी कंप्यूटर हो होता है लेकिन वह कुछ अलग होता है. Mall में जाते है शोपिंग करने तो वहा कुछ अलग प्रकार के कंप्यूटर देखने को मिलते है. सभी के कार्य अलग-अलग है और ये एक कंप्यूटर ही है. कंप्यूटर के और भी प्रकार है.

Desktop

डेस्कटॉप को तो सभी लोगो ने देखा होगा इसमें से बहुत सारे लोग इसका इस्तेमाल अपने घरो, स्कूलो में करते होंगे. ये दिखने ने बिल्कुल एक टीवी की तरह दीखता है लेकिन इसका आकार अलग अलग हो सकता है. desktop के बहुत सारे part होते है जैसे – Keyboard, Mouse और भी बहुत से part होते है. इसे अपने साथ लेकर नही घूम सकते है. ये भी एक प्रकार का कंप्यूटर ही है.

Laptop

Laptop का इस्तेमाल लगभग सभी लोग करते है इसमें Battery लगी होती है और ये आकार में बहुत ही छोटा हल्का होता है इसलिए आसानी से कही भी ले जा सकते है अतः ये भी एक प्रकार के कंप्यूटर ही है.

Tablet

इसका तो सभी लोगो ने देखा और इस्तेमाल भी किया होता. ये इसमें अन्दर हम वह सभी कार्य कर सकते है जो एक Desktop या laptop में करते है. इनका आकार बहुत हो छोटा और वजन हल्का होता है. इमसे Keyboard और Mouse नही होते है इनमे केवल एक Touch लगा होता है. इसी टच के माध्यम से Tablet को ओपरेट करते है या कर सकते है.

Servers

ये एक ऐसे Super computer होते है जिनका इस्तेमाल information के आदान-प्रदान के लिए किया जाता है उदाहरण के लिए google डाटा सेन्टर यहाँ पे सभी प्रकार के डाटा को store किया जाता है और internet पे वह डाटा search करने पे उसका प्रसारण भी किया जाता है. ये बहुत ही बड़े कंप्यूटर (super कंप्यूटर) का उदाहरण है.

कंप्यूटर के इस्तेमाल Use of computer

Computer का हमारे जीवन में बहुत ही बड़ा योगदान है हम इसका इस्तेमाल सभी जगह पे करते है हमेसा से कंप्यूटर इन्सान का एक बहुत ही अच्छा साथी रहा है. कंप्यूटर के कुछ इस्तेमाल जो निचे दिए गये है.

Education:  शिक्षा के क्षेत्र में कंप्यूटर का बहुत ही बड़ा योगदान रहा है अगर कोई स्टूडेंट online पढना चाहता है और पढता भी है ये सब कंप्यूटर के वजह से ही सम्भव हुवा है. आज के इस डिजिटल और टेक्नोलॉजी के दौर में सब कुछ कंप्यूटर पे निर्भर है.

Science: कंप्यूटर आने से सबसे ज्यादा फर्क किसी क्षेत्र में पड़ा है तो वो है science कंप्यूटर आने के बाद साइंस के अन्दर बहुत बड़ा बदलाव देखने को मिला है. अंतरिक्ष की जानकारी प्राप्त करना वहा जाना ये सभी कार्य कंप्यूटर के वजह से सम्भव हो पाया है.

Health and Medicine: ये Health और Medicine के लिए एक वरदान साबित हुई है कंप्यूटर के वजह से मरीजो का इलाज बहुत ही आसानी से हो रहा है. कंप्यूटर से और भी बहुत काम जैसे नए दवाओ का खोज करना उनका परीक्षण करना ये सभी कार्य कंप्यूटर के करना सम्भव हो पाया है.

Entertainment: मनोरजन के लिए भी कंप्यूटर का इस्तेमाल हो रहा है इसमें हम म्यूजिक सुन सकते है पिक्चर देख सकते है game खेल सकते है. मनोरंजन के लिए बहुत सी application भी उपलब्ध है जिन्हें कंप्यूटर में इनस्टॉल करके Entertainment का आनंद ले सकते है.

नोट: कंप्यूटर को अलग अलग कार्यो के अनुसार उन्हें अलग-अलग क्षेत्र में रखा जाता है.

कंप्यूटर का भविष्य

Technology के साथ-साथ कंप्यूटर में काफी सारे बदलाव देखने को मिल रहे है. आज के इस डिजिटल समय में बहुत सारे ऐसे कंप्यूटर आ गये है जिनका कीमत बहुत ही कम है और इनका आकार भी बहुत छोटा है. पहले के कंप्यूटर एक room के बराबर हुवा करते थे उसके बाद आधा room के बराबर और बाद result आपके सामने है. एक समय ऐसा आएगा जब कंप्यूटर को टच करने की जरूरत भी नहीं पड़ेगी वह हमारे मन के नुसार चलेंगी. और वह समय दूर नही है ऐसे कंप्यूटर के रिसर्च चल रही है. और यह हमें बिच बहुत जल्द ही आएगी. आने वाले समय में कंप्यूटर का भविष्य और भी टेक्नोलॉजी भरा होने वाला है.

Conclusion (निष्कर्ष)

मुझे आसा है की मैंने आप लोगो को कंप्यूटर क्या है (what is computer) की जानकारी हिंदी में दी है और मै आशा करता हु आप लोगो को computer kya hai, Computer Generation, what is computer, computer full form, computer history की जानकारी समझ आ गया होगा. अगर आपके मन में is post या Article को लेकर कोई doubts हो तो comment करके जरुर बताये. अगर आपको ये post अच्छा लगा हो और कुछ सिखने को मिला हो तो कृपया post को Social Networks जैसे की whatsapp, Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share करे.

Related

1 comment

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest posts

How To Upload WordPress Theme हिंदी में

क्या आप भी Wordpress Theme Upload करना चाहते है ? (How To Upload Wordpress Theme in Hindi) अगर वर्डप्रेस के डैशबोर्ड...

WordPress का Basic setting कैसे करें

Wordpress Basic setting कैसे करे Wordpress Basic Setting क्या है ये एक ऐसा सवाल जो लगभग वह सभी लोगो को जानना बहुत...

Categories

error: Content is protected !!